चींटी और टिड्डा की कहानी मोटिवेशन 5 बड़ी बातें

0
75

चींटी और टिड्डा की कहानी मोटिवेशन 5 बड़ी बातें

आज हम चींटी के बारे में बात करेंगे और उसी से कुछ सीखेंगे भी क्योंकि आप लोगों ने टिड्डा और चींटी की कहानी जरूर सुनी होगी या फिर पढ़ा होगा बस यही तरीका है अपनी जिंदगी का जब तक आप मेहनत नहीं करेंगे तब तक आपको फल नहीं मिलेगा इसीलिए आपको चींटी के जैसे मेहनत करनी पड़ेगी तुझे दोस्तों आर्टिकल को स्टार्ट करते हैं और जानते हैं

चींटी और टिड्डा की पांच सफलता की लेशन

हम लोग चींटी को देखते हैं जो कि एक बहुत छोटी सी जीव है पर इस छोटी सी चींटी से हम काफी कुछ सीख सकते हैं जो कि हमें लाइफ में आगे बढ़ने के लिए Grow करने के लिए अमीर और सफल बनने के लिए बहुत ज्यादा हेल्पफुल हो सकती हैं तो  वह पांच चीजें जो हम एक छोटी सी चींटी से सीख सकते हैं जो कि हमें सफल बना सकती हैं तो बात करें सबसे पहले

लेशन के बारे में जो कि हम चींटी से सीख सकते हैं वह है (thinking for future and saving for emergency) जी हां आपने टिड्डे और चींटी की जो कहानी है वह जरूर पड़ा होगा या फिर सुना होगा जिसमें होता यह है की टिड्डा दिन रात अपनी मस्ती में लगा रहता है

और आने वाले कल के बारे में बिल्कुल नहीं सोचता है जबकि वही पे जो चींटी है वह अपने फ्यूचर के बारे में सोचती है कि कल बरसात या फिर ठंडी आएगी तो उस वक्त उसके लिए बाहर निकल पाना आदरणीय भोजन ढूंढ पाना और सेफ सिक्योर रहना काफी ज्यादा मुश्किल हो सकता है

चींटी हमें क्या सिखाती है

तो इसलिए यह जरूरी है कि आज जब मौसम अच्छा है तो वह आने वाले बुरे समय है जो ठंडी है जो बरसात है उसके लिए वह जरूर तैयारी करें और उसके लिए जो भी भोजन इकट्ठा कर सकती हैं वह आने वाले फ्यूचर के लिए तो वह इकट्ठा करें और इस काम मैं वह जुटी रहती हैं जबकि वहीं पर जो टिड्डा है वह आज जो भोजन हैं आराम से करता है और खूब मस्ती करता है तो अब आगे कहानी में होता यह है

कि बाद में जब मौसम बदलता है और बरसात और ठंडी आती है तो उस वक्त उस टिड्डे के लिए अपना जीवन जीना काफी ज्यादा मुश्किल हो जाता है क्योंकि उसे भोजन बिल्कुल भी नहीं मिलता है उसने कुछ भी यहां पर अपने लिए भोजन इकट्ठा करके नहीं रखा है उसने अपना सारा समय यूं ही मजाक मस्ती में ही निकाल दिया है तो यहां पर उसके लिए जीवन जीना काफी ज्यादा मुश्किल हो जाता है

वहीं पर जो चींटी है वह अपना जीवन यापन अच्छे से कर पा रही होती हैं क्योंकि उसने पहले ही सोच की मौसम बदलेगा तो उसकी जो तैयारी है उसके जो भोजन है उसने पहले से इकट्ठा करके रखा था और फिर वह अपना जीवन अच्छे से जी पाती हैं चींटी की मेहनत बेकार क्यों नहीं होती यहां पर भी हमें चींटी और टिड्डे की कहानी से केवल यही लेनी  हमारे जीवन में भी जो समय है बदलता रहता है

चींटी और टिड्डा की कहानी

सब कुछ अच्छा के अनुसार चल रहा होता है तभी कोई इमरजेंसी आ जाती है या फिर कभी जॉब छूट जाती है या इस तरह की बहुत सारी बातें होती है जिसको ध्यान में रखते हुए हम अगर यहां पर बचत और सेविंग या फिर कुछ इन्वेस्टमेंट ना करें तो हमारे लिए लाइफ काफी ज्यादा मुश्किल हो सकती है

जैसे ही समय बदलेगा तो यहां पर जिस तरह से चींटी ने अपने फ्यूचर को ध्यान में रखते हुए अपने लिए जो भोजन है वह इकट्ठा रख लिया ठीक वैसे ही हमें भी अपने फ्यूचर कि जो unexpected चीजें हैं उसे बेटर तरीके से हैंडल करने के लिए जरूरी है कि हम प्रॉपर तरीके से कुछ हिस्सा इनकम का सेव करके इन्वेस्ट करें ताकि जैसे ही कोई बुरा समय आता है

चींटी और टिड्डा का पहला लेशन है

तो उस समय को हम ठीक तरीके से हैंडल कर सके और हमारे लाइफ में बहुत ज्यादा डिस्टरबेंस ना हो तो दोस्तों आई होप कि यह पहला लेशन है वह जरूर आप याद रखेंगे और फ्यूचर के लिए जरूर आप प्रॉपर तरीके से मनी मैनेजमेंट का यूज़ करते हुए सेविंग और इन्वेस्टमेंट पर ध्यान देंगे और अपने लिए रिजर्व फॉर्म और इमरजेंसी फॉर्म जरूर बना कर रखेंगे और साथ ही साथ आप प्रॉपर हेल्थ इंश्योरेंस और टर्म इंश्योरेंस भी लेकर रखेंगे ताकि अनएक्सपेक्टेड जो घटनाएं हैं उसे आप बेहतर तरीके से हैंडल कर सके और उसके बाद जो

दूसरा लेशन है

वह है (बेस्ट यूज ऑफ टाइम) जी हां यहां पर आप देखेंगे तो चींटी से हम एक बहुत ही इंपॉर्टेंट बात सीख सकते हैं वह यह है कि जब चींटी कभी खाली नहीं बैठती है वह अपने काम मैं हमेशा जुटी रहती है आप किसी को कभी खाली बैठा हुआ नहीं देख सकते कि वह आराम कर रही है यह जो छोटा सा जीव है चीटी हमेशा अपने काम में जुटी रहती है और शायद ही कोई चींटी अपने समय को बर्बाद करती है वह जानती है कि समय उसके पास लिमिटेड है और समय भी बदलता रहता है

तो उसे अपना जो समय है उसका बेस्ट यूज करना ही यह बात चींटी को अच्छी तरह मालूम होती है और इसलिए हमेशा अपने समय का बेस्ट यूज करती है और जैसा कि आप जानते हैं कि चाहे आपको किसी भी चीज में हो ना हो चाहे वह पैसे का मैटर हो या फिर और मैटर हो अगर आपको सफल होना है तो आपको आपके समय का बेस्ट यूज करना सीखना ताकि जो भी आपका एक्शन प्लान है उसके प्रति ठीक ढंग से आप काम करते हुए अपने गोल्स क्यों आप हासिल करें चाहे वह फॉरिएंसल गोल हो या फिर कोई और गोल हो

तो यहां पर टाइम को बेस्ट यूज करना हर एक इंसान के लिए सबसे बड़ा चैलेंज होता है और यही सीख हम चींटी से ले सकते हैं जिस तरह से एक छोटा सा जीव जो चींटी है वह अपने समय का बेस्ट यूज कर रही है तो हमें भी चाहिए कि हमें भी लाइफ में अपने समय का बेस्ट यूज करें और दोस्तों इसके बाद जो तीसरा इंपॉर्टेंट लेशन हैं

तीसरा इंपॉर्टेंट लेशन

हम चींटी से सीख सकते हैं वह है (टेकिंग बेस्ट ऑफ एनी ऑपर्च्युनिटी) जी हां आप देखते हैं कि जैसे कहीं पर आप मीठा गिरा दें वहां पर जो चींटी है वह आटोमेटिक पहुंच जाती है यानी कि जो चींटी है वह मौके की ताक में रहती है की कहां पर उसे मौका मिलता है और उस मौके का वह पूरा फायदा वहां पर उठाती है तो ठीक वैसे ही हमें भी अपनी लाइफ में जो भी मौके मिल रहे हैं होते हैं उन मौके पूरा पूरा फायदा उठाने का कोशिश करने चाहिए

मोको को यूंही हमें हाथ से नहीं छोड़ना चाहिए क्योंकि अच्छे मौके बार-बार नहीं आते हैं तो हमें समझना चाहिए जो भी हमारे पास मौके मिल रहे हैं उन मौकों में उन अवसरों मैं उन अवसरों को पहचाने और उन का बेस्ट यूज करके हम अपनी लाइफ को और ज्यादा बेहतर बनाएं और इसके बाद जो चौथी चीज हम चींटी से सीख सकते हैं वह है

चौथी चीज हम चींटी से सीख सकते हैं वह है

(नेवर क्विट ऐटिट्यूड) जी हां अगर आप ध्यान से चींटी की बिहेवियर को देखेंगे तो आप सब समझेंगे चींटी कभी हार नहीं मानती है अगर चींटी कहीं जा रही है तो उसके रास्ते में अगर कुछ रुकावट आती हैं तो वह तुरंत उस रास्ते को बदलकर या किसी तरह से वह आगे बढ़ जाती है चींटी के अंदर बार-बार कोशिश करने की एक एटीट्यूड होती है वह अपने राह में आने वाली बाधाओं को पार करने की बार-बार कोशिश करती हैं और अगर आप ध्यान से देखिए तो वह अक्सर जो चींटी है वह अपनी राह में जो भी बाधाएं उसे पढ़कर के आगे बढ़ ही जाती हैं

तो यहां पर भी हमें यही सीख लेने की जरूरत है कि हमें अपने लाइफ में कई बार जो प्रॉब्लम्स आती हैं तो हम वहां पर अपने आप को हारा हुआ महसूस करते हैं बट यहां पर अगर हम इस चींटी के इस लेशन को ध्यान रखें तो हम समझ पाएंगे कि वास्तव में जिस तरह से चींटी हमेशा अपनी राह में जो भी बाधाएं हैं

उसे पार करने का जो रास्ता है वह ढूंढ लेती है तो ठीक इस तरह से भी हमें अपनी राह में जो भी बाधाएं आ रही हैं जो भी मुश्किलें आ रही हैं लाइफ में उसका जो सलूशन है प्रॉब्लम का जो सलूशन है वह हमें ढूंढने की कोशिश करनी चाहिए और उसके ऊपर काम करके हमें जरूर आगे बढ़ना चाहिए

क्योंकि अगर आप सफलता चाहते हैं लंबी सफलता चाहते हैं बड़ा दौलत चाहते हैं तो यहां पर आपकी राह में बहुत सी मुश्किलें आएंगी और वह मुश्किल से आप को पार करना ही होगा और इसलिए जरूरी है कि आपके अंदर नेवर क्विट जो एटीट्यूड है वह होना चाहिए जिस तरह से चींटी अपने काम में करती है वैसा ही आपको भी यहां पर करना है

पांचवा इंपॉर्टेंट लेशन है

(टीम वर्क) जी हां आप देखेंगे कि अक्सर चींटी एक झुंड में काम करती है और वहां पर और झुंड होने से उनकी जो शक्तियां हैं वह बढ़ जाती है और आप देखेंगे कि चींटी अपनी ताकत से कई गुना बड़े जीव को उठाकर अपने टीम वर्क के मदद से वहां से बड़े जानवर को उठाकर वहां से ले जाती हैं

चींटी और टिड्डा की कहानी

तो ठीक वैसे ही आप भी यहां पर टीमवर्क को अगर ध्यान में रखते हैं टीम वर्क के बारे में सीखते हैं समझते हैं तो ही अब आगे बढ़ सकते हैं क्योंकि बड़ी दौलत बड़ी सफलता को जरूरी है कि आपके पास टीम हो और उस टीम को आप सही ढंग से हैंडल करते हो अगर आप टीम वर्क करना जानते हो और टीम वर्क में काम करना जानते हो तो आप लाइफ में काफी कुछ हासिल कर सकते हैं

आई होप की जो पांचो लेशन है वह आपको जरूर पसंद आया होगा जो हम एक चींटी से सीख सकते हैं क्योंकि यह जो पांचों लेशन है वह काफी ज्यादा इंपोर्टेंट है जो हमें सच में अपनी लाइफ में आगे बढ़ने के लिए काफी ज्यादा हेल्प कर सकते हैं तो अगर आपको या आर्टिकल पसंद आया हो तो इस आर्टिकल को share जरूर करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here