लेंबोर्गिनी किस देश की कंपनी है| Lamborghini Kis Desh ki Company Hai

0
21

लंबोर्गिनी का मालिक कौन है और लंबोर्गिनी किस देश की कंपनी है अगर आप लेंबोर्गिनी से जोड़ी स्वारी महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त करना चाहते हो तो इस लेख को ध्यान से पढ़ें क्योंकि मैंने कम शब्दों में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है

Lamborghini Kis Desh ki Company Hai
Lamborghini Kis Desh ki Company Hai

लंबोर्गिनी का मालिक कौन है

लंबोर्गिनी का मालिक Ferruccio Lamborghini है। और इनका जन्म 28 अप्रैल 1916 को इटली देश में हुआ था और इनका देहांत फरवरी 1993 को इटली के पेरूगिया शहर में हुआ था और लमबरगीनी लग्जरी स्पोर्ट्स कार में शामिल है और आधारित कार निर्माता कंपनी है जो इटली देश में स्थित है इसकी मूल कंपनी ऑडी है लंबोर्गिनी की शुरुआत 1963 मई महीने में हुआ था

लेंबोर्गिनी कंपनी का मुख्यालय कहां है?

Sant’ Agata Bolognese शहर मे सथित है

H2Lamborghini की स्थापना कब हुई?

लेंबोर्गिनी की स्थापना 1963 ईस्वी में हुई थी

लेंबोर्गिनीका का ओनर कौन है?

लैंबोर्गिनी कंपनी के ओनर Ferruccio Lamborghini है

H2लेंबोर्गिनी का CEO कौन है?

लंबोर्गिनी कंपनी के CEO Stephan Winkelmann है और इस पद पर 1 दिसंबर 2020 से कार्य कर रहे हैं

Lamborghini Ke Bare mein Jankari

लेंबोर्गिनी के मालिक कौन हैFerruccio Lamborghini 1963 से 1972 लेंबोर्गिनी कंपनी के मालिक थे
लेंबोर्गिनी के मालिक कौन है 1998 से Volkswagen Group लेंबोर्गिनी की मालिक है
लेंबोर्गिनी कंपनी का सीईओ कौन है Stephan Winkelmann
लेंबोर्गिनी किस देश की कंपनी हैItaly देश के Emilia-Romagna स्टेट के
Sant’ Agata Bolognese शहर मे सथित है
Website lamborghini.com

लेंबोर्गिनी कंपनी की सुरुवात किसने की थी और कब की थी

लेंबोर्गिनी की शुरुआत 1963 में इटली के Sant’Agata Bolognese शहर में हुआ था और नंबर गिनी कंपनी की शुरुआत फेरुशियो लेंबोर्गिनी के नाम से किया गया था

और दूसरे विश्व युद्ध के बाद लमबरगिनी ने पॉइंट डी सेंटो ने एक गैरेज खोला और अपने खाली समय में खरीदने एक पुराने फिएट टोपोलिनो को संशोधित किया और उन्होंने अपने खाली समय में ट्रैक्टर बनाएं जो उनके द्वारा बनाए गए पहले लंबोर्गिनी ट्रैक्टर थी

Lamborghini Kis Desh ki Company Hai
Lamborghini Kis Desh ki Company Hai

फेरुशियो लेंबोर्गिनी को कार का बहुत शौक था इसलिए उन्होंने फेरारी कंपनी की एक कार खरीदी जब उन्होंने उस कार को चलाएं तो उनको उस कार में कुछ कमियां नजर आई थी फेरुशियो लेंबोर्गिनी को लगा मुझे फेरारी कंपनी के मालिक से मिलकर इस कार की कमियों के बारे में बताना चाहिए

जब फेरुशियो लेंबोर्गिनी कंपनी के मालिक एंजो फेरारी को मिलने गए और उनको उनके काल के बारे में कुछ कमियों के बारे में बताया तब एंजो फेरारी ने कहा कि एक ट्रैक्टर बनाने वाला मुझे क्या बताएगा और एक कार कैसे बनाते हैं क्योंकि वह ट्रैक्टर बनाते थे उन्होंने लंबर गिनी कंपनी में स्पोर्ट्स कार बनाने का फैसला लिया और इससे पहले वह सिर्फ ट्रैक्टर बनाते थे

ऑटो मोबाइल लंबोर्गिनी S.P.A इटली देश का एक बड़ा ब्रांड हुआ करता था और Sant’Agata Bolognese ने स्थित था लग्जरी स्पोर्ट्स कार और SUVS का निर्माण है
कंपनी वोक्सवैगन बेड समूह के पास है और इनके सहायक कंपनी ऑडी के माध्यम से है

फेरुशियो लेंबोर्गिनी के बच्चों के नाम है

1.Tonino Lamborghini

2.Patrizia Lamborghini

H2लेंबोर्गिनी की सबसे सस्ती कार

लेंबोर्गिनी की सबसे सस्ती कार लैंबोर्गिनी URUS है उसकी कीमत इंडिया में 3 करोड़ 10 लाख रुपए हैं

लेंबोर्गिनी कंपनी में कुल कितने कर्मचारी काम करते हैं

2015 में लंबोर्गिनी कंपनी में लगभग 1100+ कर्मचारी काम करते थे

लंबोर्गिनी का इतिहास

फेरुशियो लेंबोर्गिनी एक मैकेनिकल इंजीनियर थे फेरुशियो लेंबोर्गिनी 1940 ईस्वी में इटालियन रॉयल एयर फोर्स में चले गए और वहां पर एक मैकेनिकल का काम करते थे काम करते-करते उनको उस काम का अनुभव हो गया था और व्हीकल मेनटेनेंस यूनिट मैं सुपरवाइजर बन गए थे फेरुशियो लेंबोर्गिनी उन्होंने दूसरे विश्व युद्ध के बाद अपना खुद का एक गैरेज खोला

लेंबोर्गिनी ने देखा कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद इटली में एग्रीकल्चर और इंडस्ट्री क्रांति तेजी से बढ़ रहे थे इसलिए लेंबोर्गिनी ने खुद का एक 6 सिलेंडर पेट्रोल इंजन वाला कैरीओंका नाम का एक ट्रैक्टर बनाया और ट्रैक्टर से लमबरगीनी को बहुत बड़ी सफलता हासिल हुई थी

और उसके बाद नंबर गिनी में लेंबोर्गिनी नाम का ट्रैक्टर बनाया और लंबोर्गिनी ट्रैक्टर नाम की बड़ी कंपनी खड़ी कर दी और उसके बाद ट्रैक्टर बनाना शुरू किया

लेंबोर्गिनी को कार रेसिंग करना बहुत ज्यादा पसंद था और उन्होंने रेसिंग के प्रति अपना पैशंस को देखते हुए 1958 ईस्वी में फेरारी 250 जीसी को खरीदा और काल 2 सीटों वाली कार

थी कार उनको बहुत अच्छी लगी लेकिन लेंबोर्गिनी मैकेनिकल होने के कारण उस कार को उन्होंने पाया की कार तो अच्छी है लेकिन कार का आवाज बहुत ज्यादा है अब करब सड़कों पर इंटीरियल कल्चर को रिपेयर करना बहुत जरूरी है


वह दौर था जब फेरारी कार पूरी दुनिया में अपना नाम कमा रहा था लंबोर्गिनी तब शुरुआती दिनों में 1960 ईस्वी के दशक में फेरारी दुनिया कि सबसे बेहतरीन लग्जरी स्पोर्ट्स कारों को बनने वाली में से एक थे लेंबोर्गिनी ने सोचा अपनी खामियों के बारे में बताएं तो उन्होंने अपनी कार फेरारी 250 जीसी में देखा था

लेंबोर्गिनी ने अपनी चुनौती को जीतने के लिए बड़ी मेहनत करना शुरू कर दिया था 4 महीनों में उन्होंने 30 अक्टूबर 1963 में उन्होंने लेंबोर्गिनी 350 GTV को लांच किया था कार को लांच करने के बाद उन्होंने बहुत बड़ी सफलता हासिल की थी

फेरारी को सबसे बड़ी ट्रैक्टर साबित हुई क्योंकि नंबर गिनी ने अपनी कारों की कीमत फेरारी के बराबर रखी थी इसलिए उनकी मिनी फैक्चर सही थी जो खामियां फेरुशियो लेंबोर्गिनी को फेरारी 250cc कार में लगे थे

उन्होंने उस कमियों को लमबरगीनी 350 जी टीवी में पूरी कर दी थी इसके बाद कार के इंजन की क्षमता बढ़ाने के लिए 400 GT मैं पूरी किया स्पोर्ट कार कि दुनिया में लंबोर्गिनी की कार एक अलग जगह है अमीर लोगों के घर में और सामान्य लोगों सपनों में बसी हुई इसीलिए सपोर्ट कार का नाम लेते ही सबसे पहले नाम आता है लंबोर्गिनी का

लंबोर्गिनी का मालिक कौन है

लंबोर्गिनी का मालिक Ferruccio Lamborghini है। और इनका जन्म 28 अप्रैल 1916 को इटली देश में हुआ था और इनका देहांत फरवरी 1993 को इटली के पेरूगिया शहर में हुआ था

लेंबोर्गिनी कंपनी का मुख्यालय कहां है?

Sant’ Agata Bolognese शहर मे सथित है

लंबोर्गिनी की सबसे महंगी कार

लंबोर्गिनी की सबसे महंगी कार Veneno Roadster है इसकी प्राइस इंडिया में 45 करोड़ रुपए हैं

लेंबोर्गिनी कहां की कंपनी है

लेंबोर्गिनी इटली देश की कंपनी है और इसका मुख्यालय इटली के शहर Sant’Agata Bolognese में है

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने आपको बताया लेंबोर्गिनी किस देश की कंपनी है और लेंबोर्गिनी कंपनी का मालिक कौन है और लेंबोर्गिनी कंपनी के बारे में आपको काफी जानकारी दी है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी ऐसे दो दिलचस्प आर्टिकल पढ़ते रहने के लिए हमारे ब्लॉग पेज पर रोज विजिट करें

Read More –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here